Mook Naayak मूकनायक
Search
 
 

Display results as :
 


Rechercher Advanced Search

Latest topics
» भारत की मीडिया का जातिवाद Bharat ki Media ka Jativaad
Mon Feb 09, 2015 3:46 pm by nikhil_sablania

» आसानी से प्राप्त करें व्यवसाय और निवेश की शिक्षा
Mon Nov 03, 2014 10:38 pm by nikhil_sablania

» ग्रामीण छात्र को भाया डॉ भीमराव अम्बेडकर का सन्देश: कहा व्यवसायी बनूंगा
Sat Nov 01, 2014 1:17 pm by nikhil_sablania

» जाती की सच्चाई - निखिल सबलानिया
Mon Oct 27, 2014 1:57 pm by nikhil_sablania

» बाबासाहेब डॉ अम्बेडकर की दलितों के उत्थान के प्रति सच्ची निष्ठा का एक ऐतिहासिक प्रसंग
Mon Oct 27, 2014 1:44 pm by nikhil_sablania

» कैसे बाबासाहेब डॉ अम्बेडकर ने तैयार की दलितों में से पहले गजेटेड अफसरों की फ़ौज
Mon Oct 27, 2014 1:23 pm by nikhil_sablania

» बाबासाहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर की ईमानदारी का ऐतिहासिक प्रसंग
Mon Oct 27, 2014 1:12 pm by nikhil_sablania

» मिस्टर गांधी का ईसाई विरोध और मुस्लिम पक्ष - डॉ अम्बेडकर
Mon Oct 27, 2014 12:46 pm by nikhil_sablania

» डॉ अम्बेडकर के पुस्तक प्रेम की प्रशंसा
Mon Oct 27, 2014 12:34 pm by nikhil_sablania

Shopmotion


Navigation
 Portal
 Index
 Memberlist
 Profile
 FAQ
 Search
Affiliates
free forum
 

12 अगस्त को आरक्षण फिल्म पर रोक लगाने के लिए जंतर-मंतर पर विशाल प्रदर्शन

View previous topic View next topic Go down

12 अगस्त को आरक्षण फिल्म पर रोक लगाने के लिए जंतर-मंतर पर विशाल प्रदर्शन

Post  Admin on Thu Aug 11, 2011 1:00 am

अनुसूचित जाति/जन जाति संगठनों का अखिल भारतीय परिसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष, डॉ0 उदित राज ने कहा कि फिल्म निर्देशक, प्रकाश झा ने इस फिल्म को पैसा कमाने के लिए बनाया है। उन्होंने यह नहीं सोचा कि इससे जातीय नफरत पैदा होगी। फिल्म का एक दृश्य जिसमें एक ओबीसी विद्यार्थी लिखता है, ‘‘आरक्षण हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है।’’ उसके बाद सामान्य वर्ग के प्रोफेसर ने कहा, ‘‘आरक्षण खैरात है।’’ अन्य दूसरा दृश्य है कि एक अंक कम होने से जब सामान्य वर्ग के विद्यार्थी को नौकरी नहीं मिलती तो कहता है कि अनुसूचित जाति का अगर आरक्षण न होता तो उसको नौकरी मिल जाती। इस तरह से फिल्म में तमाम ऐसे दृश्य है, जिससे नफरत एवं घृणा का माहौल पैदा होगा। डॉ0 उदित राज ने कहा कि प्रकाश झा और आरक्षण फिल्म के समर्थक यह नहीं जानते कि आरक्षण पूनापैक्ट (गांधी एवं डॉ. बी.आर. अम्बेडकर के बीच समझौता) की देन है। अगर ऐसा न होता तो देश भी बंट सकता था। यह संवैधानिक व्यवस्था है। देश की संसद ने भी यह तय कर दिया है फिर भी बार-बार दलितों एवं आदिवासियों के खिलाफ इस तरह की नफरत भरी बातें होती रहती हैं।

डॉ0 उदित राज ने कहा कि फिल्म पर यदि प्रतिबंध नहीं लगाया जाता है तो आगामी 12 अगस्त को दोपहर 12 बजे जंतर-मंतर, नई दिल्ली पर विशाल प्रदर्शन होगा। सभी मानवतावादी, भ्रष्टाचार विरोधी एवं आरक्षण समर्थक अपना सहयोग एवं समर्थन दें।


सम्पर्क: विनोद कुमार

मो. 9871237186, 23354841-42

ईमेल dr.uditraj@gmail.com

Related articles:

Releasing film with some edited dialogues won't change anything, because film is an attack on ideology and struggle of Dr BR Ambedkar and hundreds of Dalit leaders and Indian reformers and aim to cementing Brhamanism in India.
Read more:-

Aarakshan is Anti-Masses, Anti-Dalit And Anti-National Film


http://mooknaayak.freeblogforum.com/t90-aarakshan-is-anti-masses-anti-dalit-and-anti-national-film

आरक्षण फिल्म पर रोक लगे

http://mooknaayak.freeblogforum.com/t91-topic

To read complete Chapter or book or more literature of DR. BR Ambedkar click http://drambedkarbooks.wordpress.com/dr-b-r-ambedkar-books/

This forum is maintained by Cowdung Films
www.cowdungfilms.com
Published by: Nikhil Sablania

Admin
Admin

Posts : 76
Join date : 2010-10-23

View user profile http://mooknaayak.freeblogforum.com

Back to top Go down

View previous topic View next topic Back to top


 
Permissions in this forum:
You cannot reply to topics in this forum